Hindi Edition

सिप अबेकस प्रतियोगीता मे 700 मानवीय कैलकुलेटर ने भाग लिया

उत्तरप्रदेश । अब छात्रों को ना तो रफ़ पेपर का सहारा लेना पड़ेगा और न पहाड़ा याद करना पडेगा । वह सब अपने मस्तिष्क में ही सवालों का हल कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ नज़रा था दूसरी उत्तरप्रदेश एवं उत्तराखंड सिप अबेकस प्रतियोगिता का जहां 70 विद्यालयों व 12 सेंटर से आए 700 बच्चों ने भाग लिया व महज 11मिनट में 280 सवालों को हल किया। एवं 3 मिनट में गुणा भाग के 120 सवालों को हल करके सभी अतिथियों व अभिभावकों को अचंभित कर दिया ।

रविवार को आयोजित इस प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि कपिल देव अग्रवाल, सतीश गोयल, डा सुभाष शर्मा चेयरमैन, अंजू अग्रवाल, चंचल सक्सेना, डा एम के बंसल, डा एस सी कुलश्रेष्ठ, धारा एवं विश्व रतन, मृनालिनी अनंत, समर्थ पृकाश, कृष्ण गोपाल, अनिल कंसल, अमित गर्ग, सुतोपा बोसजी, असद जमा व अन्य अतिथिगण को स्मृति चिन्ह स्वरूप ट्राफी देकर सम्मानित किया ।

सभी ने बच्चों के इस हुनर की मुक्त कंठ से प्रशंसा की व सिप अबेकस को सभी बच्चों के लिए जरूरी बताया। प्रोग्राम का संचालन डॉ. रिंकू एस. गोयल ने किया था ।

चेन्नई से आए सिप अबेकस के रिलेशनशिप बिल्डिंग हैड संजीव मेनन व नाथॅ रीजन हैड राजेश चड्ढा ने सिप अबेकस के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी दी । व बताया की आज इस प्रोग्राम के रिजल्ट के अनुसार विभिन्न क्षेत्रों से आये निम्न बच्चों ने अपने अपने लेवल में टॉप किया उनको ट्राफी देकर सम्मानित किया गया ।

जिसमें पार्थ मूंदरा, अनंत जैन, इदिका अग्रवाल, वासु गोयल, कुँज गोयल, तरुण कुमार, नीरज पंवार, विभू यादव, सत्यम सिंगल, नित्या जैन, इशांकि जिन्दल, राधिका गर्ग, गोविंद गोयल, अनन्या गोयल, अनुष्का चौधरी, सिया गोयल आदि मुख्य रहे थे ।

विभिन्न लेवल के बच्चों को अलग अलग स्मृति चिन्ह व मैडल से सम्मानित किया । सिप अबेकस नई मंडी ने अलग अलग लेवल में 5 चैंपियन, 31 सुपर स्टार व 61 स्टार ट्राफी ( कुल 97) के साथ इस प्रतियोगिता में चैंपियन सेंटर की टाफी जीती । 7 चैंपियन 20 सुपर स्टार 23 स्टार ट्राफी के साथ (कुल 50) शामली ने प्रतियोगिता में दूसरा व 2 चैंपियन 5 सुपर स्टार 13 स्टार ट्राफी (कुल 20) के साथ प्रेमो पुरी सेंटर ने तीसरा स्थान प्राप्त किया था ।

सिप अबेकस की एरिया हेड रीना अग्रवाल नें बताया कि 13 वर्षों से मुजफ्फरनगर में चल रहे इस कार्यक्रम से पौराणिक विधियों पर आधारित इस शिक्षा प्रणाली से बच्चों के दिमाग का सम्पूर्ण विकास होता है व उनकी एकाग्रता व आत्मविश्वास मे लाभ मिलता है । सीए अजय अग्रवाल ने सभी का हार्दिक आभार व्यक्त किया था ।

कार्यक्रम में विशेष रूप से अनिल कंसल, मनीष बंसल, आकाश अमर, मोनिका, शिल्पी, लोनारका तरंग, तृपति, नीरू, शिविका, नरेंद्र ज्योति आदि ने योगदान दिया था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...