Hindi Edition

अयोध्या विवाद पर नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारुक अब्दुल्ला ने कहा इस मामले को कोर्ट में ले जाने की जरुरत नहीं

नई दिल्ली । अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में 10 से शुरू हो रही सुनवाई को लेकर नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि इस मामले पर चर्चा होनी चाहिए। इसे कोर्ट में ले जाने की जरुरत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा इस मसले पर बैठकर चर्चा होनी चाहिए।

चर्चा से ही मामला सुलझाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि भगवान राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं हैं, वह पूरी दुनिया के भगवान हैं। भगवान राम से किसी को बैर नहीं है और होना भी नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि मामले को सुलझाने की और मंदिर बनवाने की कोशिश करनी चाहिए। जिस दिन ऐसा हुआ, वह भी एक पत्थर लगाने जाएंगे। 

 मालूम हो कि रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली दो जजों की बेंच ने तीन जजों की बेंच का गठन कर 10 जनवरी को सुनवाई का ऐलान किया गया है। इसके बाद पूरे मामले पर विभिन्न राजनीतिक पार्टियों और हिंदू संगठनों की प्रतिक्रिया आ रही है। 

केवल कुर्सी के लिए भाजपा उठाती है राम मंदिर का मुद्दा :

फारूक अब्दुल्ला ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा के लिए मंदिर निर्माण का मुद्दा केवल सत्ता के लिए है। उन्होंने कहा कि मंदिर बनाने से बीजेपी का कोई सरोकार नहीं है। ये लोग सिर्फ कुर्सी पर बैठने के लिए मंदिर की बात उठाते हैं।उन्होंने कहा कि बीजेपी ने पिछले पौने पांच साल में कुछ भी नहीं किया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...