Hindi Edition

एनजेए अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता ने पत्रकार कानून को लेकर दिया 20 सूत्रीय मांग का ज्ञापन

पटना । नेशनल जर्नलिस्ट एसोशिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम ने आज अपनी 20 सुत्रीय मांगों के समर्थन में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को ज्ञापन सोंपा । राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने पत्रकार हितों और उनके सुरक्षा के लिए मांग पत्रों को पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को देते हुए पत्रकारिता के हर पहलुओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए इस 20 सुत्रीय मांग पर ध्यान देने का आग्रह किए।

ज्ञापन को पृष्ठवार पढ़कर पूर्व मुख्यमंत्री ने नेशनल जर्नलिस्ट एसोशिएशन के सोच और पत्रकार हितों के कार्यों के लिए 20 सुत्रीय मांगोंं का समर्थन करते हुए इसे दर्शाते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र  लिखने और इस ओर ध्यान दिलवाने का भी आश्वासन दिए। मांझी ने इस अवसर पर ये भी कहा कि नेशनल जर्नलिस्ट एसोशिएशन एक मात्र ऐसा संगठन है जो पत्रकार के हितों के लिए 20 सुत्रीय मांगों को लेकर लड़ाई जारी की है जो सराहनीय है।

इस सांगठनिक कार्यक्रम पर राष्ट्रीय महासचिव संजय कुमार सुमन ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष ने संगठन के 20 सुत्रीय मांगों को हर पत्रकार के साथ हो रहे अन्याय को न्याय दिलवाने हेतू बीरा उठाया है काबिले तारीफ है। इस साहसिक कार्य में सभी पत्रकार को अपने हक के लड़ाई के लिए आगे आना चाहिए।

प्रदेश अध्यक्ष अबोध ठाकुर ने कहा कि पत्रकार हित के लिए लगातार हमारे संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता का अथक प्रयास जारी है। उन्होंने कहा कि पत्रकार के हितों के लड़ाई लड़ने के लिए लिए मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता को हृदय से धन्यवाद और बधाई देता हूं जिनके द्वारा पूरे भारत के पत्रकार आपकी कार्य की ओर आशा लेकर टकटकी निगाह से सहयोग का आशा रख रही है।

आपके प्रयास का फल ऐसा मिलेगा कि पत्रकार सिर्फ एन.जे.ए  को ही जानेगी। मैं सभी जिला के पत्रकार बंधुओं से अनुरोध करता हूं कि यह 20 सूत्री मांग का ज्ञापन अपने अपने जिला में स्थानीय सांसद एवं विधायक को सौपे ,ताकि बिहार सरकार और केंद्र सरकार पर हमारी मांग का दबाव बने।

बिहार प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सी.के.झा ने कहा कि इससे पहले संगठन ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के अगुआई में 20 सूत्री मांग का ज्ञापन पहले बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे को , फिर मंत्री नंदकिशोर यादव और सांसद राजीव प्रताप रूडी को भी सौंपे गये ।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता ने आज 31 जनवरी को बिहार सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री सह हम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष सिया शरण शर्मा से मिलकर उन्हें भी पत्रकार हित के लिए बनाए गए 20 सूत्री मांग का ज्ञापन सौंपे और सहयोग के लिए अपील किए ।

जिस पर मुख्यमंत्री और मजदूर संघ के अध्यक्ष ने सहयोग का पूरा आश्वासन दिया जो अपने आप में संगठन के लिए  गर्वान्वित करने वाला पल रहा।

बताते चलें कि जिस 20 सुत्रीय मांग के लिए संगठन लड़ रही है वह यह कि :

1 ) पत्रकारों की सुरक्षा के लिए ‘‘जर्नलिस्ट  प्रोटेक्शन एक्ट’(पत्रकार सुरक्षा कानून) बनाया जाए।                 
2) पत्रकार उत्पीड़न की घटना और उनके  समस्याओं के निराकरण के लिए जिला स्तर तक ‘‘प्रेस परिषद आयोग’’ का गठन किया जाए अथवा पत्रकार मामले में एक अलग जांच एजेंसी का गठन करवायी जाए।
3) पत्रकार के मामले में “एफआईआर” होने से पहले मामले की जांच हो और पत्रकार के खबर मामले में आपराधिक / मानहानि की धारा को नहीं लगाया जाए।
4) मीडिया “काउन्सिल क्लब” बनाया जाय जिसमें “बेव मीडिया” भी शामिल हो।
5) पत्रकार मामले को लेकर मीडिया काउन्सिल के जरिए एडवोकेट मुहैया करवाया जाय।पत्रकार मीडियाकर्मी पर कवरेज के दौरान हमले को विशेष कानून के तहत दर्ज किया जाए ।
6) मान्यता प्राप्त पत्रकार को हर महीने सरकार के तरफ से प्रोत्साहन राशि मिले और किसी भी सरकारी या गैरसरकारी स्थल पर हुए किसी घटना के मामलों में पत्रकार को कवरेज में रुकावट के लिए सरकारी कार्यों में बाधा की तरह देखा जाए।
7) पत्रकार/मीडियाकर्मी को टोल टैक्स पुरे देश में निशुल्क किया जाए।
8) पत्रकार/मीडियाकर्मी पर दर्ज हुए मामले  की जांच कम से कम पीसीएस या आईपीएस अधिकारी द्वारा हो।
9)  यदि पत्रकार/मीडियाकर्मी पर झूठा मामला दर्ज किया जाता है और उसकी पुष्टि होती है तो झूठा मुकदमा करने वालों के खिलाफ आजीवन कारावास और अधिकतम जुर्माने का प्रावधान हो।
10) पत्रकार/मीडियाकर्मी की हत्या को रेयरेस्ट क्राइम के अंतर्गत रखा जाए।
11) कवरेज के दौरान घायल हुए पत्रकार/मीडियाकर्मी का इलाज सरकारी अथवा निजि अस्पताल में नि:शुल्क किया जाए।
12) यदि पत्रकार/मीडियाकर्मी के परिजनों पर रंजिशन हमला किया जाता है तो उनका इलाज  अस्पताल में नि:शुल्क किया जाए।
13)कवरेज के दौरान अथवा किसी मिशन पर काम करते हुए पत्रकार/मीडियाकर्मी की मृत्यु होने पर उसके परिजन को सरकारी नौकरी दी जाए।
14) सभी प्रशासनिक व विभागीय बैठकों में पत्रकारों की उपस्थिति अनिवार्य की जाए।
15) पत्रकार/मीडियाकर्मी को कवरेज हेतु  रेलवे में यात्रा के लिये आरक्षण एवं किराया में रियायत का प्रावधान की जाए।
16) पत्रकार/मीडियाकर्मी को मिले धमकियां  पर उसकी सुनवाई शिघ्र हो और उन्हें तत्वरित  सुरक्षा प्रदान की जाए।
17) राज्य एवं केन्द्र के स्तर पर “पत्रकार आर्थिक सुरक्षा निधि” योजना का संचालन हो तथा 1000000 (दस लाख) का नि:शुल्क स्वास्थ बीमा सुनिश्चित की जाए ।
18) मीडियाकर्मी ऋण योजना बैंको द्वारा संचालित करवायी जाय।
19) पत्रकार/मीडियाकर्मियों के बच्चों के लिये अच्छे शिक्षण संस्थानों में कोटा हो अथवा उनकी फीस में रियायत हो।
20) सुरक्षित पत्रकारों को आत्मरक्षा हेतु शस्त्र लाइसेन्स आवेदन के 15 दिन के अन्दर बिना एन.एस.सी. के वरियता के आधार पर लाइसेन्स प्रपत्र जारी किया जाए।

उस समय एनजेए टीम में राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश गुप्ता के साथ-साथ संजीव कुमार गुप्ता, किशोर चौहान, बिहार सूचना आयोग एवं मुख्यमंत्री के पूर्व  प्रेस सलाहकार कृष्ण बिहारी चौहान आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...