Hindi Edition

अंतर्राष्ट्रीय एशिया कॉन्टिनेंट अवॉर्ड से सम्मानित होंगी पार्वती जांगिड़

काठमांडू । प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्त्ता, यूथ लीडर, जोधपुर की बेटी और एशिया में भारत व माल्डोवा की सांस्कृतिक राजदूत, यूथ पार्लियामेंट ऑफ़ इंडिया की चेयरपर्सन सुश्री पार्वती जांगिड़ सुथार आगामी 30 दिसम्बर 2019 को नेपाल की राजधानी काठमांडू में अंतर्राष्ट्रीय एशिया कॉन्टिनेंट समरसता अवॉर्ड से सम्मानित होंगी। यह जानकारी अंतर्राष्ट्रीय चयन समिति संयोजक, नेपाल के पूर्व उपप्रधानमंत्री टॉप बहादुर रायमाँझी व नेपाल सरकार के विकाश बोर्ड सचिव डॉ प्रदीप ढकाल ने दी।

उन्होंने कहा की सुश्री जांगिड़ वसुधैव कुटुम्बकम और सत्यम शिवम् सुंदरम की विचारधारा को चरितार्थ कर रही है, उनकी सोच, कार्यशैली एक अनुपम उदहारण है, हमें ज्ञात हुआ की इन्होने स्वयं का बालविवाह नाकाम किया, समाज को कुरितियों के प्रति जागरूक, पार्वती के सामाजिक कार्यों के साथ, विश्व समुदाय की चिंतन धारा इन्हे एक विशेष शख्सियत बनती है। इनकी प्रतिभा और उच्च कोटि के गुणों के समानार्थ यह अंतर्राष्ट्रीय पुरुस्कार इंटरनेशनल एशिया कॉन्टिनेंट समरसता अवॉर्ड प्रदान किया जाएगा ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार समारोह में सार्क सदस्य राष्ट्र भारत, भूटान, नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, मालदीव के सम्मानित सदस्यों सहित लगभग 150 देशों के प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे। उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय समरसता मंच द्वारा सत्यम, शिवम, सुंदरम की अवधारणा तथा भारतीय संस्कृति के गौरव बढ़ाने में योगभूत बनी प्रतिभाओं को समय-समय पर सम्मानित किया जाता हैं। सुश्री जांगिड़ की सेवाओं का मूल्यांकन करते हुए देश विदेश के अनेक संगठनों ने उनको सम्मानित किया हैं। उनके संघर्ष की दास्ताँ और विचारों को यूरोपीय देश माल्डोवा में भी पढ़ाया जा रहा है।

विशिष्ट उपलब्धियाँः

मात्र 14 साल की उम्र से बालिका शिक्षा, समाजसेवा व सीमा जागरण का अनुकरणीय उदाहरण पेश किया। 2016 में पिता के देहांत के बावजूद राष्ट्र कार्य जारी, तीन बड़ी बहनों और दो छोटे भाइयों सहित परिवार को संभालना, सेवा कार्य जारी रखना, हिम्मत न हारने की वजह से दैनिक भास्कर के विमेन प्राइड अवार्ड-2017 के तहत देश की टॉप तीन चैंजमेकर महिलाओं में शामिल, 94.3 माय एफ.एफ की तरफ से राष्ट्रीय स्तरीय जियो दिल से अवार्ड, 2018 में फ्युचर लीडर ऑफ द वर्ल्ड के तहत इजरायल में हुए वर्ल्ड गवर्नेंस एक्सपेडीशन में देश का प्रतिनिधित्व किया, 13 से 19 अक्टुबर, 2018 तक इजरायल में तिरंगा लहरा, सर्वश्रेष्ठ डेलिगेट घोषित हुई और लीडरशिप का उत्कृष्ट सम्मान ‘‘चाणक्य अवार्ड‘‘ अपने नाम किया।

हाल ही विशेष उपलब्धि :

यूरोपीय देश, रिपब्लिक ऑफ मोल्दोवा के जिओग्राफी सैन्य संस्थान ने देश की बेटी और सामाजिक कार्यकर्ता, युथ आइकॉन व युवा संसद, भारत की चेयरपर्सन पार्वती जांगिड़ को ‘‘द नाइट ऑफ इंटरनेशनल इल्लुमिनेशन मेडल, ऑर्डर ऑफ लीडरशिप एंड द गर्ल हीरो अवार्ड‘‘ से अलंकृत किया।

ज्ञात हो कि पार्वती की छोटी सी जिंदगी की संघर्ष की दास्ताँ यूरोपियन कंट्री माल्डोवा के युवाओं को सद्कार्य व देश के प्रति अपने कर्तव्य निभाने के लिए वहां की जियोग्राफी हिस्टोरिया सैन्य संस्थान पढ़ा रही, गरीबी के कारन वहां के युवा समुद्री डाकू, इत्यादि गलत कार्यों में जा रहे, युवाओं को पार्वती के कार्यों, हिम्मत और गरीबी को मात दे सदकार्य, देश निर्माण की भावना को पढ़ा प्रेरित कर रहे।

पार्वती के हौंसले व हिम्मत को सम्मान देते हुए रिपब्लिक ऑफ मोल्दोवा के जिओग्राफी सैन्य संस्थान ने इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मान से अलंकृत किया। पार्वती हर वर्ष रक्षाबंधन निमित्त 7-10 दिन बॉर्डर पर होती है, इसलिए वह जा नहीं पाई। यही पार्वती का देश व फौजी भाईयों के प्रति समपर्ण, भीड़ से अलग खास बनाता है।

अन्तरराष्ट्रीय सम्मान के भारत पहुंचने पर केन्दिय युवा एवं खेल मंत्री किरन रिजूजी ने पार्वती को इस सम्मान व पदक से मंत्रालय में विभूषित किया। तथा लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला व पूर्व राष्ट्रपति एवं भारत रत्न श्री प्रणब मुखर्जी, राजस्थान के माननीय मुख्यमंत्री व राज्यपाल ने अपने आवास बुला कर आशीर्वाद दिया।

अब तक दर्जनों राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय सम्मानों से नवाजी गई है युथ आइकॉन पार्वती :

भारत की लक्ष्मी राष्ट्रीय पुरस्कार, चाणक्य अवार्ड, वीर दुर्गादास राठौड़ सम्मान, द नाइट ऑफ इंटरनेशनल इल्लुमिनेशन मेडल, विश्वकर्मा रत्न, ऑर्डर ऑफ लीडरशिप, द गर्ल हीरो अवार्ड, जियो दिल से अवार्ड, सोशल एक्टिविस्ट ऑफ द इयर, पर्सनलटी ऑफ द इयर, सिस्टर ऑफ बी.एस.एफ., वुमन प्राइड, भारत गौरव, बाड़मेर गौरव, सहित कई सम्मानों से अलंकृत है पार्वती, पार्वती स्वामी श्री विवेकानन्द जी को आदर्श मानती है।

बहुत ही सामान्य परिवार की बालिका पार्वती को इस मुकाम पर देख समाज व सीमावर्ती बालिकाएं जिन्होने पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी वापिस विद्यालय, महाविद्यालय जाना प्रारम्भ कर दिया। अन्तर्राष्ट्रीय पहचान बन चुकी, विश्वकर्मा रत्न और भारत गौरव सहित दर्जनों सम्मान प्राप्त पार्वती को राज्य व केन्द्र के कई मंत्री, धर्मगुरू, सीमा सुरक्षा बल, भारतीय सेना, एयर फोर्स सहित कई संस्थान व राष्ट्रवादी चिंतक सम्मान दे चुके है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...